संजय दत्त की ‘भूमि’ लिखना मेरे लिए गर्व की बात : राज शांडिल्य

22 सितम्बर को देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है ‘भूमि’

(धर्मेन्द्र साहू)
मुम्बई। संजय दत्त की 22 सितम्बर को रिलीज हो रही फिल्म ‘भूमि’ बाप-बेटी के रिश्ते पर आधारित है। फिल्म में दर्शाया गया है कि एक बाप अपनी बेटी की परवरिश के लिये क्या-क्या करता है। । इस फिल्म की स्क्रिप्ट मशहूर राइटर राज शांडिल्य ने लिखी है। राज के लिये ये फिल्म किसी चुनौती से कम नहीं है क्योंकि फिल्म इंडस्ट्री में वापस कदम रखने के बाद संजू बाबा जैसे मंझे हुये कलाकार की ये पहली फिल्म है और उन्होंने इसके लिये राज पर भरोसा जताया है।
खास रिपोर्ट डॉट कॉम से एक खास बातचीत में फिल्म राइटर राज शांडिल्य ने अपनी फिल्म ‘भूमि’ को लेकर बेबाक बातचीत की। उन्होंने बताया कि आगरा की पृष्ठभूमि पर एक लो-मिडिल फैमिली पर आधारित इस फिल्म में संजू बाबा ने अनूठा अभिनय किया है। जिसे दर्शक न केवल सराहेंगे बल्कि इससे उन्हें प्रेरणा भी मिलेगी। इस पारिवारिक फिल्म में एक बाप और बेटी की कहानी है। पिता की भूमिका में संजय दत्त अपनी बेटी बनी अदिति राव के लिये किन-किन चुनौतियों से मुकाबला करते हैं। ये देखकर दर्शक रोमांचित हो जायेंगे।

राज कहते हैं कि ये फिल्म मेरे लिये बड़ा चैलेंज है क्योंकि संजय दत्त जैसे गम्भीर कलाकार ने लम्बे ब्रेक के बाद इस फिल्म के जरिये वापसी की है और मुझ पर भरोसा जताया है। उन्होनें कहाकि मेरी लिखी फिल्म के जरिये संजू बाबा कमबैक हुये हैं ये मेरी लिये खुशी की बात भी है और मेरे लिये चैलेंज भी है । हालांकि मैं आठ-दस सालों से कॉमेडी ही लिखता चला आ रहा था इसलिये मुझे भी थोड़ा कॉन्सेप्ट चेंज करना था इसलिये इस चैलेंज को स्वीकार करने में उत्साह भी कम नहीं था।
बच्चे की तरह निश्छल और मासूम हैं संजू बाबा
वेल्कम बैक, फ्रीकी अली जैसी हिट फिल्में और कई सालों तक कॉमेडी नाइट विद कपिल सहित कई टीवी कॉमेडी शो लिखने वाले राज शांडिल्य कहते हैं कि संजू बाबा को लेकर मेरी सोच थी कि वे इतने बड़े कलाकार हैं और वे कई सारी कंट्रोवर्सीज से भी घिरे रहे तो उनका नज़रिया भी काफी सख्त होगा लेकिन जब उनसे ‘भूमि’ को लेकर मुलाकात हुई तो उन्होंने मुझे गले से लगा लिया। उनकी फिल्में कोई भी देखे तो उनकी इंसानियत और सच्चाई नजर आती है क्योंकि निजी जिंदगी में भी वे बहुत इमोशनल हैं। उनसे बातचीत करके रोम-रोम स्पंदित हो जाता है। राज ने बताया कि संजू बाबा वास्तव में एक बच्चे की तरह ही निश्छल और मासूम हैं। उन्हें मेरी स्क्रिप्ट पसंद आई इसलिये मेरे लिये ये फिल्म बिग चैलेंज और गर्व की बात भी है। हालांकि भूमि का ट्रेलर लोगों को काफी शानदार लगा है, लोग प्रोत्साहित भी खूब कर रहे हैं और उम्मीद है कि दर्शक भूमि को बहुत प्यार देंगे।
लड़कों से कम नहीं लड़कियां
इस फिल्म के बारे में बताते हुये राज शांडिल्य ने कहाकि फिल्म में गणेश जी की आरती संजू बाबा ने खुद गाई है । आरती में परम्परागत पंक्ति ‘बांझन को पुत्र देत’ पर फिल्म में संजय दत्त की बेटी बनी अदिति राव सवाल उठाती हैं कि बांझन को पुत्र ही क्यों ? पुत्री क्यों नहीं… जबकि लड़कियां भी किसी क्षेत्र में लड़कों से कम नहीं हैं। उन्होंने कहाकि लोग फिल्म देखकर सोचने पर मजबूर हो जायेंगे कि ‘दूधो नहाओं पूतो फलो’ का ही आर्शीवाद क्यों। लड़कियों का तिरस्कार आखिर कब तक ? और इसका जवाब मिलेगा भूमि देखने के बाद ही।
राज ने कहाकि इस फिल्म को लेकर डायरेक्टर उमंग कुमार सहित पूरी टीम के बीच जबर्दस्त केमिस्ट्री रही। फिल्म में प्रमुख कलाकार अदिति राव, शेखर सुमन, शरद केलकर व रिद्धि सेन आदि ने शानदार अभिनय किया है।
संजय दत्त की अगली फिल्म मलंग भी लिख रहे हैं राज
फिल्म और टेलीविजन की दुनिया में मुकाम स्थापित कर चुके राज शांडिल्य सरल और मिलनसार प्रवृत्ति के साथ ही अपनी लम्बी पर्सनेलिटी के लिये जाने जाते हैं। ‘भूमि’ के बाद वे संजय दत्त के लिये फिल्म ‘मलंग’ लिख रहे हैं।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: