रामलीला दिव्य संस्कृति की संवाहक : चन्द्रपाल सिंह यादव

धर्मेन्द्र साहू
झांसी। राज्यसभा सांसद एवं कृभको अध्यक्ष डॉ.चन्द्रपाल सिंह यादव ने कहा है कि रामलीला मंचन जैसे आयोजन भारतीय संस्कृति के संवाहक हैं। उन्होंने कहाकि मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम की दिव्य लीलाएं देखकर जीवन जीने की कला मिलती है। उन्होंने बड़ाबाजार में श्रीरामलीला मंचन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुये ये विचार प्रकट किये।
बड़ाबाजार रामलीला आयोजन समिति पिछले 53 वर्षों से लगातार शारदीय नवरात्रों के दौरान पारम्परिक रामलीला मंचन का कार्यक्रम आयोजित करती आ रही है। इस वर्ष भी ये आयोजन भव्यता के साथ हो रहा है। खास बात ये है कि रामलीला के पात्र स्थानीय लोग ही होते हैं जो पूर्ण तन्मयता से रामलीला का मंचन करते है। आज इस मंचन के मुख्य अतिथि सांसद एवं कृभको के अध्यक्ष डॉ. चन्द्रपाल सिंह यादव रहे। इस दौरान उन्होंने कहाकि बड़ा बाजार रामलीला आयोजन समिति बधाई की पात्र हैं क्योंकि पिछले 53 वर्षों से ये आयोजन लगातार इस समिति द्वारा किया जा रहा हैं।
उन्होंने कहाकि रामलीला का मंचन हमारी भारतीय परम्पराओं का हिस्सा है। उन्होंने कहाकि सिनेमा, टीवी और सोशल मीडिया के युग में भी रामलीला मंचन की प्रासंगिकता बनी हुई है और इससे हमें जीवन जीने की कला मिलती है। उन्होंने कहाकि भगवान श्री राम की लीलाऐं हमें दिव्य जीवन जीने की प्रेरणा देती हैं। उन्होंने कहाकि इस आयोजन के प्रोत्साहन के लिये वे हमेशा तत्पर रहेंगे।
इस दौरान आयोजन समिति के महामंत्री वरिष्ठ पत्रकार अरूण द्विवेदी ने कहाकि जन सहभागिता से इस रामलीला का मंचन कई वर्षों से निरंतर जारी है , इसका उददेश्य है कि हमारी संस्कृति जीवंत बनी रहे। उन्होंने सांसद चन्द्रपाल सिंह की प्रशंसा करते हुये कहाकि वे ऐसे कार्यक्रमों में हमेशा अग्रणी रहते हैं।
आभार समिति के वरिष्ठ पदाधिकारी भरत राय ने व्यक्त किया।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: